Hindi Sahitya Parishad

हिंदी साहित्य परिषद अर्धवार्षिक वृत्तांत २०१६-१७

शंकर नारायण महाविद्यालय एवं हिंदी साहित्य परिषद की ओर से प्रति वर्ष की भाँति इस वर्ष भी हिंदी दिवस मनाया गया । दि. २० सितंबर , २०१६ को " हिंदी दिवस " के उपलक्ष्य में हमारे छात्रों ने कई कविताओं का गायन किया । जिनमें हिंदी की आज की स्थिति , हिंदी का गुणगान आदि विषयों पर प्रकाश डाला गया । इस अवसर पर शायरी भी सुनाई गई । इस कार्यक्रम की प्रमुख अतिथि डॉ. मंजुला देसाई जी ने हिंदी को रोजगार की भाषा बताते हुए हिंदी को सर्वसमावेशक भाषा कहा । उन्होंने छात्रों का मार्गदर्शन करते हुए हिंदी को मधुरतम् भाषा कहा ।प्राचार्य जी ने इस अवसर पर छात्रों का मार्गदर्शन किया।

दि. ९ दिसंबर ,२०१६ को निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था । जिसमें लगभग ५० छात्रों ने हिस्सा लिया । दि.२३ दिसंबर , २०१६ को हस्ताक्षर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था । जिसमें ६० छात्र सहभागी हुए ।

दि . १८ जनवरी, २०१७ को वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था । इस प्रतियोगिता के दो विजेता अंतर्महाविद्यालयीन वाद-विवाद प्रतियोगिता में हमारे महाविद्यालय का प्रतिनिधित्व करते हैं ।

दि. २१ जनवरी , २०१७ को कथाकथन , काव्य वाचन / गायन , शायरी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था । हमारे छात्रों ने इस अवसर पर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया ।

दि . २४ जनवरी , २०१७ को अंतर्महाविद्यालयीन वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था । जिसका विषय था " आज की जीवनशैली ही मनुष्य के अस्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार है । इस प्रतियोगिता में आसपास के कई महाविद्यालय सहभागी हुए थे ।

हिंदी साहित्य परिषद की ओर से विभिन्न प्रतियोगिताएं एवं कार्यक्रमों का आयोजन कर छात्रों को मंच प्रदान किया जाता है ।

हिन्दी साहित्य परिषद के उद्देश्य:-

  • व्यक्तित्व विकास

  • वकृत्व कला का विकास

  • श्रवण कला का विकास

  • अभिनय, हावभाव, क्षमता का विकास

  • हस्ताक्षर मे सुधार

  • साहित्य के प्रति रूचि मे वृद्धि

  • बौद्धिक, सामाजिक एवं भवनीक विकास

हिन्दी साहित्य के सदस्य :

  • डॉ. मनीषा रा. घरत (अध्यक्षा)

  • प्रा. नीलम पाटील

  • प्रा. जीवन धन्दर

  • प्रा. उर्मिला डिसूज़ा

छात्र प्रतिनिधि :-

  • कु. रूद्र वरुण सिन्हा (सचिव)

  • कु. शंभुप्रसाद बिंदुप्रसाद

  • कु. प्रिया मिश्रा

  • कु. आकृति श्रीवास्तव

  • कु. बबिता मिश्रा

  •  

  •  

  •  

  •  

कु. रूद्र वरुण सिन्हा                    

सचिव                            

हिंदी साहित्य परिषद